69वें गणतंत्र दिवस -राजपथ से दुनिया ने देखी भारत की सैन्य ताकत

0
97

नई दिल्ली। (हिन्द न्यूज सर्विस)। 69वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर आज राजपथ पर भारत की सैन्य ताकत, सांस्कृतिक धरोहर और विविधताओं का प्रदर्शन किया। इस अवसर पर आसियान के 10 देशों के नेता कार्यक्रम में मुख्य अतिथि हैं।

भारतीय इतिहास में पहली बार आसियान के दस देशों के राष्ट्राध्यक्ष एक साथ मुख्य अतिथि के रूप में पधारे हैं। राजपथ पर गणतंत्र दिवस का उत्सव मनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने सभी आसियान राष्ट्राध्यक्षों का स्वागत किया और राष्ट्रपति कोविंद रामनाथ की मौजूदगी में राष्ट्रध्वज फहराने के साथ ही पूरा राजपथ जन गण मन से गूंज उठा।

सुबह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तीनों सेनाओं के प्रमुखों की मौजूदगी में इंडिया गेट स्थित पवित्र अमर जवान ज्योति पर पुष्पांजलि अर्पित कर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद प्रधानमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगियों तथा तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने राष्ट्रपति और तीनों सेनाओं के सवोच्र्च कमांंडर रामनाथ कोविंद का स्वागत किया। राष्ट्रपति के सलामी मंच पर 21 तोपों की सलामी लेने के बाद सुबह दस बजे विजय चौक से भव्य परेड आरंभ हुई जिसका लगभग डेढ घंटे बाद लाल किले पर समापन हुआ।

चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के बीच हुई इस भव्य परेड का मुख्य आकर्षण सीमा सुरक्षा बल की 113 जांबाज कमांडों के मोटरसाइकिल पर रोंगटे खड़े कर देने वाले और हैरतअंगेज कारनामे रहे। इसके अलावा भारत के स्कूली बच्चों द्वारा आसियान देशों की वेशभूषा में वहां के लोक नृत्यों की धूम, देश में ही बनाये जा रहे विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रांत और उस पर तैनात मॉरकोस कमांडो, पहली बार समारोह में शामिल हुए रूद्र लड़ाकू हेलिकॉप्टर तथा लड़ाकू विमानों की करतबाबाजी भी आकर्षण का केन्द्र रहे ।

परेड के शुरू में वायु सेना के पांच एम आई-17 हेलिकॉप्टरों ने फ्लाईपास्ट किया और गुलाब की पंखुडियों की बरसात की। इन पर राष्ट्रीय ध्वज , तीनों सेनाओं के ध्वज तथा आसियान का ध्वज लहरा रहा था। इसके बाद परेड के कमांडर और दिल्ली क्षेत्र के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री तथा चीफ ऑफ स्टाफ मेजर जनरल राजपाल पूनिया की सलामी के साथ परेड का विधिवत आगाज किया। उनके पीछे खुली जीप में दो परमवीर चक्र तथा तीन अशोक चक्र विजेता खुली जीप में राजपथ से निकले।

इसके बाद भारतीय सेना के जवान आसियान के ध्वज के साथ साथ सभी दस मेहमान आसियान देशों ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, मलेशिया, फिलीपीन्स, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम के ध्वज लेकर राजपथ से गुजरे।

राजपथ पर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद की खूबसूरत झांकी भी निकली। कई अन्?य मंत्रालयों की भी विशेष थीम के साथ झांकियां निकलीं। साथ ही इसके जरिए विशेष अपील भी की गई। युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय की खेलो इंडिया थीम के साथ झांकी निकली। आयकर विभाग की झांकी में स्वच्छ धन अभियान को बढ़ावा देने की अपील की गई।

राजपथ पर राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित बहादुर बच्चों की झांकी भी निकली। देश भर के विभिन्न स्कूलों के छात्रों ने अपने सांस्कृतिक कार्यक्रमों से भी मौजूद दर्शकों का मन मोह लिया।

परेड में पहली बार बीएसएफ की महिला जवानों ने मोटर साइकिल पर करतब दिखाया, जिसे देख हर कोई हैरान रह गया। सुप्रीम कमांडर ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सलामी दी।

इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वायुसेना के शहीद गरुड़ कमांडो जेपी निराला को शांतिकाल के सबसे बड़े वीरता पुरस्कार अशोक चक्र से सम्मानित किया। शहीद गरुड़ कमांडो जेपी निराला को मरणोपरांत अशोक चक्र से नवाजा गया. उनकी पत्नी ने राष्ट्रपति से पुरस्कार प्राप्त किया। इस दौरान राष्?ट्रपति भावुक भी नजर आए।

००००००००००००

 

LEAVE A REPLY