उत्तर प्रदेश-विधानभवन के सामने आलू गिराये जाने के मामले में दो गिरफ्तार

0
36

लखनऊ। (हिन्द न्यूज सर्विस)। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में विधानभवन और राजभवन के सामने तथा मुख्यमंत्री केसामने आलू फेंकने के मामले में पुलिस ने कन्नौज से दो लोगों को गिरफ्तार किया है।

लखनऊ के एसएसपी दीपक कुमार ने शनिवार को आलू कांड पर खुलासा करते हुए बताया कि इस पूरे घटना में 6 लोग शामिल थे। वहीं इस घटना में किसान यूनियन के किसी नेता का हाथ नहीं था।

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया घटना में पुलिस ने 10 हजार से अधिक नम्बरों को सर्विलांस से जांचा गया। सीसीटीवी के जरिये आलू लाने वाली गाड़ी के नंबर और मालिक की हुए शिनाख्त साजिश रचने में कन्नौज के जिला पंचायत अध्यक्ष शिल्पी चौहान का पति संजू कटियार शामिल था। घटना में शामिल सभी लोग राजनैतिक तौर पर समाजवादी पार्टी से जुड़े हैं।

एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार शिवेंद्र सिंह उर्फ कुकू चौहान नगर पंचायत का चुनाव लड़ा था। संदीप उर्फ विक्की यादव ने गाडिय़ां अरेंज की थी। इनमें दीपेंद्र सिंह सिंह चौहान तो कुक्कू का सगा भाई है। इनके साथ ही साजिश में जिला पंचायत अध्यक्ष शिल्पी कटियार का पति संजू कटियार, ग्राम प्रधान प्रदीप सिंह उर्फ बंगाली तथा कन्नौज से नगर पंचायत का चुनाव लडऩे वाले जय कुमार तिवारी उर्फ बड़े बऊवन शामिल हैं।

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि सीओ हजरतगंज अभय कुमार मिश्रा ने करीब 10 हजार से ज्यादा नम्बरों को खंगाला। उसमें एक संदिग्ध नंबर संतोष पाल का मिला। जांच के दौरान बात साफ हो गई कि संतोष की गाड़ी सुबह 3.45 बजे इसी इलाके में सुबह में मिली थी। फुटेज में कन्नौज की गाड़ी दिखी। पुलिस ने पता लगाया और फिर आरोपियों को पकड़ा। आरोपी ने कबूला कि हम लोगों ने आलू फेंका था।

एसएसपी ने बताया कि लोडर चालक ने जो नाम बताएं उनके मोबाइल फोन की कॉल डिटेल निकलवाई तो बात सही निकली। पुलिस ने इस कांड में शामिल नेताओं के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल के आधार पर कई अन्य नेताओं को भी साजिश का हिस्सा बनाया है। या रिपोर्ट जल्दी गृह विभाग को भेजी जाएगी।

इस घटना में संदीप कुक्कू चौहान, दीपेंद्र चौहान, प्रदीप सिंह बंगाली ,बड़े कुमार समेत 6 लोग शामिल थे। लोडर के ड्राइवर संतोष पाल ने बताया कि उस रात कुक्कू चौहान अपनी फॉच्र्यूनर में आगे चल रहा था। कुक्कू के साथ अंकित और दीपेन्द्र गाड़ी में बैठे थे। एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि आलू फेंकने की साजिश समाजवादी युवजन सभा के नेताओं ने रची थी। कन्नौज के तिर्वा से डाला भरकर आलू लाया गया था। पुलिस को सीसीटीवी से अहम सबूत मिले हैं। इस मामले में पुलिस ने कन्नौज के सपा नेता के करीबी अंकित सिंह और डाला चालक संतोष पाल को गिरफ्तार किया है।

सतीश जाटव और अनुराग दोहरे के कोल्ड स्टोरेज से इन लोगों ने पुराना आलू लिया था। सतीष जाटव ने रामप्रसाद मिश्रा के कोल्ड स्टोरेज से खरीदा था। जय कुमार तिवारी भी इसमें शामिल थे, रात में मॉल एवेन्यू गये थे। किसके घर मे रुके थे इसके बारे में जानकारी की जा रही है। पकड़े गए संतोष और अंकित सपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हैं।

एएसपी पूर्वी सव़र्वेश मिश्र ने बताया कि कन्नौज निवासी अंकित सिंह चौहान व सुशील पास को गिरफ्तार किया है। उन्होनें बताया कि हाई सिक्योरिटी जोन में कई जगह सीसी कैमरे की फुटेज में ये लोग आलू फेंकते नजर आये थे। जिसके बाद से इनकी तलाश की जा रही है। एएसपी ने बताया कि अंकित व सुशील समाजवादी युवजन सभा से जुडे होने की बात कह रहे हैं। जिसकी पड़ताल की जा रही है।

इस मामले में रिपोर्ट बनाकर गृह विभाग को भेजी गई है। माल एवेन्यू स्थित पार्टी के दफ्तर में फ्रंटल संगठनों के पदाधिकारी एकत्र हुए और आलू एक लोडर में भरा गया। आधी रात के बाद लोडर राज भवन की तरफ रवाना किया गया। इसमें बैठे मजदूर बोरे काटकर आलू फेंकते जा रहे थे। लोडर के आगे पीछे राजनीतिक पार्टी के नेता कारों से चल रहे थे। सीसीटीवी फुटेज में भी लोडर के आसपास कारें चलती नजर आ रही हैं। पुलिस ने लोडर चालक से पूछताछ की तो राजनीतिक साजिश की पुष्टि हो गई।

गौरतलब है की आलू की कम कीमतों से नाराज किसानों ने छह जनवरी को विधानभवन, राजभवन और मुख्यमंत्री आवास के बाहर सैकड़ों किलो आलू फेंक अपना विरोध जताया था। इसके बाद आरोप लगाया गया था कि किसान आलू की कम कीमत मिलने के चलते नाराज हैं। किसानों को मंडियों में 4 रुपये किलो का भाव मिल रहा है, लेकिन किसान सरकार से 10 रुपये प्रति किलो का भाव मांग रहे हैं। इसलिए विरोध स्वरूप राजधानी लखनऊ की सड़कों पर बोरे के बोरे आलू फेंक दिए हैं।

००००००००

LEAVE A REPLY