चार जजों ने जो मुद्दे उठाए हैं वो बहुत महत्वपूर्ण हैं-राहुल गांधी

0
13

नई दिल्ली। (हिन्द न्यूज सर्विस)। सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों ने शीर्ष अदालत के कामकाज को लेकर पत्रकार वार्ता की। इसके बाद न्यापालिका को लेकर सियासत भी गरमा गई। वरिष्ठ जजों की इस पत्रकार वार्ता के बाद देर शाम कांग्रेस ने पत्रकार वार्ता कर इस मामले को गंभीर बताया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पत्रकार वार्ता में कहा, ये बहुत संवेदनशील मामला है, चार जजों ने जो मुद्दे उठाए हैं वो बहुत महत्वपूर्ण हैं। जजों ने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है इस पर ध्यान देने की जरूरत है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पत्रकारों से कहा कि जजों ने जो मुद्दे उठाए हैं, वे काफी अहम हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी घटना पहली बार हुई है। जजों के सवाल बेहद जरूरी सवाल हैं, उन्हें ध्यान से देखा जाना चाहिए। राहुल ने कहा कि मुझे देश की न्याय व्यवस्था पर भरोसा है। मुझे यकीन है इस मामले की निष्पक्षता से जांच की जाएगी।

इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, आज सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों ने पत्रकार वार्ता की, इसके साथ ही एक वो पत्र भी जारी किया जो उन्होंने चीफ जस्टिस को लिखा था। माननीय जजों की टिप्पणी बेहद परेशान करने वाली हैं। जजों की इस पत्रकार वार्ता का लोकतंत्र पर दूरगामी असर होगा। इसके साथ ही कांग्रेस ने जस्टिस लोया की मौत की जांच वरिष्ठतम जज से कराने की मांग की है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के 4 वरिष्ठ जजों ने पत्रकार वार्ता के बाद मीडिया को उस लेटर की कॉपी भी दी, जिसे उन्होंने करीब 2 महीने पहले सीजेआई को लिखा था। लेटर में जज ब्रृजमोहन लोया की मौत मामले का भी जिक्र था। सीबीआई कोर्ट के स्पेशल जज लोया (48) की दिसंबर 2014 में मौत हो गई थी। वह सीबीआई के स्पेशल कोर्ट में सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले को देख रहे थे। इस हाई प्रोफाइल केस में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत गुजरात के कई बड़े अधिकारी नामजद थे। बाद में उस मामले में अमित शाह बरी हो गए थे।

जस्टिस लोया की मौत की जांच की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में भी एक जनहित याचिका दायर हुई है। वकील अनीता शिनॉय ने इस सिलसिले में सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की हैं। संयोग से शुक्रवार को उनकी जनहित याचिका पर सुनवाई भी थी। सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस लोया की मौत की जांच की मांग वाली याचिका की सुनवाई करते हुए महाराष्ट्र सरकार को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया है। इस मामले में शीर्ष अदालत में सोमवार को अगली सुनवाई होगी। बता दें कि अंग्रेजी मैगजीन द कैरवां में जस्टिस लोया की मौत पर परिवार के संदेह को लेकर एक विस्तृत रिपोर्ट प्रकाशित हुई थी। इस रिपोर्ट के बाद देश के कई हिस्सों में जस्टिस लोया की मौत पर सवाल उठने लगे थे।

००००००००००

LEAVE A REPLY