इतिहास को विकृत करने का अधिकार किसी को भी नहीं-गौतम

0
16

रायपुर। (हिन्द न्यूज सर्विस/वीएनएस)। भारत के गौरवशाली इतिहास को विकृत करने का अधिकार किसी को भी नहीं है, चाहे वो कोई भी हो। ऐसा करने की इजाजत देश और समाज के साथ -साथ संविधान भी किसी को नहीं देता। रविवार को ये बातें अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के प्रदेश अध्यक्ष ठाकुर अवधेश सिंह गौतम ने फिल्म पद्मावती को लेकर हुई एक पत्रकारवार्ता में कही। उन्होंने आगे कहा कि हम अभिव्यक्ति की आजादी के पक्षधर तो हैं, मगर अपने गौरवशाली इतिहास के तथ्यों से की गई छेड़छाड़ कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। फिल्म किसी भी समाज का आइना होती है, मगर ये फिल्मकारों को भी सोचना होगा कि वो समाज को कैसा आइना दिखाना चाह रहे हैं? फिल्म निर्देशकों और निर्माताओं को ये भी तो सोचना चाहिए कि हमारी आने वाली पीढ़ी जब इस फिल्म को देखेगी, तो उसके मन में हमारे ही महापुरुषों की कैसी छवि बनेगी? ऐसे में क्या वो उनको अपना आदर्श उसी रूप में मान सकेंगे, जैसे कि आज के दौर में हम मान रहे हैं?

इसको लेकर पूरे छत्तीसगढ़ में विरोध तो पहले से ही शुरू हो गया है। अब रायपुर में 18 नवंबर को सप्रे शाला मैदान में एक सभा का आयोजन किया जाएगा। यहीं से समाज के सारे लोग निकलकर राजभवन जाएंगे जहां महामहिम को ज्ञापन सौंपा जाएगा। इसके साथ ही साथ सभी समाज के लोग एक साथ मिलकर इस फिल्म के प्रदर्शन को बैन करने की मांग भी सरकार के समक्ष रखेंगे।

कार्यक्रम के दौरान ठाकुर सुखवीर सिंह राघव, आर.पी. सिंह, रवींद्र सिंह, ज्योति सिंह ठाकुर, अंजना सिंह अनिल सिंह और धमेंद्र सिंह सेंगर के अलावा बड़ी संख्या में क्षत्रिय समाज के लोग उपस्थित रहे।

०००००००००००

LEAVE A REPLY