दो मिलियन से कम आबादी वाले बोत्सवाना ने दिया चीन को करारा जवाब, हम तुम्हारे गुलाम नहीं

0
81

गाबोरोने। दुनिया की सुपरपावर होने का दावा करने वाली चीन को बोत्सवाना के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है। बोत्सवाना ने चीन को साफ-साफ कह दिया है कि वह उसकी धमकियों से डरने वाला नहीं है। बोत्सवाना के राष्ट्रपति इयान खामा ने हाल ही में दलाई लामा के दौरे के विरोध में आई चीन की धमकी के बाद अपना सख्त रुख साफ कर दिया है। बोत्सवाना दुनिया में हीरे के लिए जाना जाता है और यहां की आबादी दो मिलियन से भी कम है।

राष्ट्रपति खामा ने चीन को दो टूक कहा है, ‘हम आपके गुलाम नहीं है।’ पिछले कुछ हफ्तों से दलाई लामा के दौरे को लेकर चीन और बोत्सवाना के बीच राजनयिक तनाव जारी है। दलाई लामा 17 अगस्त से 19 अगस्त तक बोत्सवाना की राजधानर गाबोरोने का दौरा करने वाले थे। उनका बोत्सवाना दौरा एनजीओ माइंड एंड लाइफ इंस्टीट्यूट और बोथो यूनिवर्सिटी की ओर से आयोजित किया गया। इसके बाद भी राष्ट्रपति खामा, दलाई लामा से मिलने के तैयार थे। खामा ने बोत्सवाना गार्डियन न्यूजपेपर से बातचीत में बताया कि चीन ने इसके दुष्परिणाम झेलने को कहा था जैसे कि राजदूत को वापस बुला लिया जाएगा और इस कदम से रिश्तों पर असर पड़ेगा। इसके अलावा उन्हें यह धमकी भी दी गई थी कि चीन,बोत्सवाना को अलग-थलग करने के लिए दूसरे अफ्रीकी देशों से संपर्क बढ़ा सकता है।

दलाई लामा को पिछले हफ्ते अपना दौरा कैंसिल करना पड़ा। इसके पीछे उन्होंने जो वजह बताई उसमें उन्होंने कहा कि उनकी सेहत ठीक नहीं है और डॉक्टरों ने उन्हें ज्यादा लंबी यात्रा करने से मना कर दिया है। राष्ट्रपति खामा ने कहा, ‘मैं उम्मीद करता हूं कि वह जल्दी ठीक होंगे और एक बार वह ठीक हो जाएंग तो निश्चित तौर पर बोत्सवाना में उनका स्वागत होगा।’ चीन ने बोत्सवाना को धमकी देते हुए कहा था कि चीन के अहम मुद्दों का सम्मान करे और सही राजनीतिक फैसला ले। चीन की धमकियों को नजरअंदाज करते हुए बोत्सवाना दलाई लामा के स्वागत के लिए तैयारी कर रहा था। बोत्सवाना के राष्ट्रपति खामा अगले वर्ष अपने पद से हट जाएंगे। जो कदम बोत्सवाना ने उठाया है्, वह दूसरे दक्षिण अफ्रीकी देश उठाने से भी हिचकिचाते हैं।
०साभार लाइव हिन्दुस्तान
०००००००००००

LEAVE A REPLY