केजरीवाल के जनता दरबार में शामिल होने पहुंचे कपिल मिश्रा को पुलिस ने बाहर ही रोका

0
48

नई दिल्ली। (हिन्द न्यूज सर्विस)। पुलिस ने दिल्ली के बर्खास्त मंत्री कपिल मिश्रा को मुख्यमंत्री केजरीवाल के जनता दरबार जाने से रोक दिया जिसके बाद वहां हंगामे जैसी स्थिति उत्पन्न हो गयी। मिश्रा के जनता दरबार में पहुंचने की खबर के बाद से उनको रोकने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया था। सिविल लाइंस में केजरीवाल के निवास में दाखिल नहीं हो पाने से नाराज मिश्रा और उनके समर्थक नारेबाजी करने लगे और वहीं धरने पर बैठ गए। मिश्रा मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के नेता सत्येंद्र जैन पर लगे ”भ्रष्टाचार के आरोपों को उठाने के लिए केजरीवाल से उनके ‘जनता दरबार में मिलना चाहते थे।

जानकारी के अनुसार पुलिस ने जब कपिल मिश्रा को जनता दरबार में जाने से रोका, तो उन्होंने अपने समर्थकों के साथ गीत गाना शुरू कर दिया। पुलिस ने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के घर पर भी सुरक्षा कड़ी कर दी है। केजरीवाल के दरबार में पहुंचने से पहले मिश्रा ने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि आज 10 बजे सीएम के जनता दरबार जाऊंगा, मेरे साथ शहीद संतोष कोली की माता जी भी जाएंगी।

मिश्रा ने कहा, ”मैं यहां सिर्फ 15-20 लोगों के साथ आया था। ऐसे जनता दरबार का क्या फायदा, जब यहां जनता को आने की अनुमति नहीं है? मिश्रा ने पहले ही जनता दरबार में आने का ऐलान कर दिया था जिसके बाद पुलिस ने बर्खास्त मंत्री एवं उनके समर्थकों को रोकने के लिए मुख्यमंत्री निवास के आस-पास अवरोधक लगा दिए थे। मिश्रा ने पत्रकारों से कहा, ”हम यहां केजरीवाल और जैन के खिलाफ लगे भ्रष्टाचार के आरोपों पर चर्चा के लिए राम लीला मैदान में दिल्ली विधानसभा का एक विशेष सत्र आयोजित किए जाने की मांग करने आए थे लेकिन हमें यहां से आगे ही नहीं बढऩे दिया गया।

मिश्रा ने केजरीवाल और जैन से इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद उन्हें अपने पद पर बने रहने का कोई ”नैतिक अधिकार नहीं है। बर्खास्त नेता के साथ यहां दिवंगत आप नेता संतोष कोली की मां भी मौजूद थी जो अपनी बेटी की मौत के मामले की जांच सीबीआई से करवाने की मांग कर चुकी हैं। संतोष कोली सीमापुरी से आप की उम्मीदवार थी जिनकी जून 2013 में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी।
आंदोलन की शुरुआती साथी संतोष कोली की दुखद मृत्यु अत्यंत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई, आम आदमी पार्टी के नेताओं ने भी इसे साजिश करार दिया और हत्या बताया। अरविंद केजरीवाल ने स्वयं भी पूर्ण सत्ता की सरकार आने पर इस घटना की सीबीआई जांच कराने की बात कही। उनका परिवार आज भी न्याय पाने की उम्मीद में लड़ रहा है।

००००००००००००

 

LEAVE A REPLY