सामूहिक दुष्कर्म के मामले में लापरवाही बरतने पर तीन टीआई, दो एसआई निलंबित

0
40

भोपाल। (हिन्द न्यूज सर्विस)। मध्य प्रदेश की राजधानी के हबीबगंज इलाके में संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की कोचिंग की तैयारी कर रही छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में लापरवाही बरतने पर जीआरपी समेत 3 थाना प्रभारियों और दो एसआई को सस्पेंड किया गया। वहीं, एक सीएसपी को हटाकर पुलिस मुख्यालय अटैच किया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सामूहिक दुष्कर्म मामले को लेकर आला पुलिस अफसरों की आपात बैठक बुलाई। उन्होंने केस की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में कराने की बात भी कही।

बता दें कि लड़की 31 अक्टूबर को कोचिंग से घर लौट रही थी, तभी हबीबगंज स्टेशन के पास 4 आरोपियों ने उसे डरा-धमका कर गैंगरेप किया। वारदात के 24 घंटे बाद केस दर्ज हो पाया।

सामूहिक दुष्कर्म के मामले को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने डीजीपी समेत आला पुलिस अफसरों की आपात बैठक बुलाई। मुख्यमंत्री ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि ऐसे मामलों में पुलिस को फौरन एक्शन लेना चाहिए। लापरवाही से काम करने वाले पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई हो। रिपोर्ट दर्ज करने में 24 घंटे क्यों लगे इसका जवाब दिया जाए।

मुख्यमंत्री की फटकार के बाद पुलिस मुख्यालय ने दोपहर एक बजे तीन टीआई, दो एसआई को जहां निलंबित कर दिया, वहीं एक सीएसपी को मुख्यालय अटैच कर दिया।

पुलिस महानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) मकरंद देउस्कर ने बताया कि हबीबगंज के टीआई रविंद्र यादव, एमपी नगर के टीआई संजय सिंह बैस और शासकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) के टीआई मोहित सक्सेना और एमपी नगर के एसआई आर एन टेकाम और जीआरपी के एसआई उइके को निलंबित कर दिया गया है। वहीं, एमपी नगर के सीएसपी कुलवंत सिंह का हटाकर पुलिस मुख्यालय भेज दिया गया है।

उन्होंने बताया कि प्रकरण की जांच के लिए महिला अपराध के पुलिस उप महानिरीक्षक सुधीर लाड के नेतृत्व में एसआईटी गठित किया गया है। देउस्कर ने बताया कि इस मामले में चार लोगों को हिरासत में लिया गया था। पहचान होने के बाद उनमें से तीन आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है। चौथे आरोपी की तलाश के लिए कई टीमें काम कर रही हैं।

इधर जीआरपी ने मामले गिरफ्तार किए गए दो अन्य आरोपियों को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर ले लिया है। जबकि चौथा आरोपी अभी भी फरार है। मालूम हो कि मुख्य आरोपी गोलू उर्फ बिहारी को बुधवार को ही पीडि़ता ने खुद ही पकड़कर पुलिस के हवाले किया था, जिसके बाद ही पुलिस ने मामला दर्ज किया था।

मालूम हो कि 31 अक्टूबर को देर शाम सात बजे विदिशा निवासी 19 वर्षीय छात्रा एमपी नगर जोन 2 से यूपीएससी की कोचिंग से छूटकर हबीबगंज स्टेशन की ओर जा रही थी। जहां रास्ते में उसको दो बदमाशों ने रोका और उससे छीनाझपटी शुरू कर दी । इस दौरान वह झडिय़ों में गिर गई थी। जहां दो आरोपियों ने उससे सोने की चेन , मोबाइल और कान टाप्स लूट लिए थेे। उसके बाद दोनों आरोपियों ने उसके साथ ज्यादती की।

आरोपियों ने छात्रा के पूरे कपड़े फाड़ दिए थे। उसके बाद 100 मीटर लंबे नाले से उसको घसीटकर दूसरी तरफ ले गए। जहां आरोपियों के दो और साथी आ गए। उन्होंने भी उसके साथ ज्यादती की थी। चारों आरोपी रात दस बजे तक उसके साथ दरिंदगी करते रहे इसके बाद उसे छोड़ दिया।

घटना के बाद पीडि़त छात्रा अपने पुलिसकर्मी माता- पिता के साथ एमपीनगर थाने, हबीबगंज और हबीबगंज जीआरपी में शिकायत करने पांच घंटे से ज्यादा समय तक भटकती रही थी। एफआईआर नहीं होने पर पीडि़ता खुद अपने माता-पिता के साथ आरोपियों के संभावित ठिकानों पर जा पहुंची। जहां मुख्य आरोपी गोलू उर्फ बिहारी उन्हें मिल गया। आरोपी को पीडि़ता जब खुद जीआरपी थाने लेकर पहुंची तक कहीं मामला दर्ज हुआ और दो अन्य आरोपी गिरफ्तार किए जा सके। चौथा आरोपी अभी भी फरार है।

०००००००

LEAVE A REPLY