शिवराज चुनाव आयोग की भाजपा के प्रति अमानवीयता व प्रताडऩा को स्पष्ट करे -कमलनाथ

0
10

भोपाल। (हिन्द न्यूज सर्विस)। प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि आज शिवराजसिंह चौहान ने केबिनेट की बैठक बुलायी थी। मतगणना के पांच दिन पहले इस बैठक को लेकर इस तरह प्रचारित किया गया कि उन्हें किसान और आम जनता की बड़ी चिंता है इसलिए पांच दिन इंतजार नहीं कर सकी। कर्तव्य का पालन करना था। जबकि सच्चाई सब जानते हैं। जिन्होंने 15 वर्ष किसानों और आम जनता की चिंता नहीं की वे आखिरी पांच दिनों में दिखावटी चिंता से कौन सा उनका भला करेंगे?

कमलनाथ ने कहा कि शिवराजसिंह चौहान ने आज पत्रकार वार्ता में चुनाव आयोग को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की है कि भाजपा चुनाव आयोग की अमानवीय प्रताडऩा का सबसे ज्यादा शिकार हुई है। इस पर उन्हें वह सारे मामले स्पष्ट करना चाहिए, जिसमें भाजपा को प्रताडि़त व अमानवीयता का शिकार होना पड़ा। उनका यह बयान चुनावी कार्य में लगे हजारों अधिकारियों और कर्मचारियों का अपमान है व उनकी निष्ठा और निष्पक्षता पर संदेह व्यक्त करता है। इसके लिए शिवराजसिंह को उनसे माफी मांगना चाहिए।

नाथ ने कहा कि शिवराजसिंह कांगे्रस को लेकर झूठ परोसना बंद करें। कांगे्रस उन अधिकारियों पर सवाल उठा रही है जो ईवीएम की सुरक्षा में गड़बडिय़ों के जिम्मेदार हैं और जो भाजपा को फायदा पहुंचाने का काम कर रहे हैं। जो आज भी भाजपा के एजेंट के रूप में कार्य कर रहे हैं। जिनकी निष्पक्षता पर आज भी संदेह है। कांगे्रस चुनाव कार्य में लगे उन हजारों ईमानदार अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ है जो आज भी ईमानदारी, निष्पक्षता और निष्ठा से अपना कार्य कर रहे हैं।

कमलनाथ ने कहा बड़ा आश्चर्य है कि शिवराजसिंह ने केबिनेट की बैठक के बाद अपनी प्रेस कांफ्रेस में ईवीएम की गड़बड़ी पर सवाल उठाने पर कांगे्रस को खूब कोसा। लेकिन सागर, सतना, खरगोन, भोपाल सहित प्रदेश के कई हिस्सों में ईवीएम की गड़बडिय़ों और भेापाल में लावारिस हालात में मिले डाक मतपत्रों पर उन्होंने एक शब्द भी नहीं बोला। इन गड़बडिय़ों के मामलों को नहीं उठाया। इससे ही समझा जा सकता है कि भाजपा का इन गड़बडिय़ों को संरक्षण है। इसलिए भाजपा इस पर मौन है।

उन्होंने कहा कि कांगे्रस को कोसने वाले शिवराजसिंह यह जान लें कि प्रदेश में कांगे्रस की सरकार हर हाल में बन रही है। इसमें हमें किसी भी प्रकार का संशय व संदेह नहीं है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि ईवीएम की गड़बडिय़ों पर कांगे्रस चुप रहे और जनादेश के साथ खिलवाड़ होने दे।

नाथ ने चुनाव आयोग से मांग की है कि वह शिवराजसिंह चौहान मतदान के बाद उनके तमाम दौरों, मुलाकातों व बांधवगढ़ यात्रा पर निगरानी रखे। कांगे्रस के पास इसकी पुख्ता जानकारी है कि छुट्टियों के बहाने बांधवगढ़ जा रहे शिवराजसिंह की कई रिटर्निंग आफीसर्स से मुलाकात की तैयारी है, ताकि दबाव, प्रभाव डालकर बड़े पैमाने पर गडबड़झालों को अंजाम दिया जा सके। जिन-जिन क्षेत्रों में भाजपा हार रही है और कांगे्रस जीत रही है वहां चुनाव कार्य में लगे जिम्मेदार अधिकारियों पर दबाव, प्रभाव डाला जा रहा है। इसलिए चुनाव आयोग मतगणना के पूर्व चुनावी कार्य में लगे अधिकारियों को जो शिवराजसिंह से मुलाकात कर रहे हैं, उन्हें निगरानी में ले। कांगे्रस भी ऐसे लोगों की सूची बनाकर उन्हें रिकार्ड में लेगी।

०००००००००

LEAVE A REPLY