राहुल गांधी पूरे बुंदेलखंण्ड की आबादी के विकास का नया दृष्टिकोण और रोड मेप लेकर यहॉ आ रहे है-डॉ. सबलोक

0
123

टीकमगढ़। (हिन्द न्यूज सर्विस)। बुंदेलखंण्ड के टीकमगढ़ लोकसभा क्षेत्र की अधिकांश आबादी किसान, मजदूर, और गरीब है। इसके साथ ही यह पूरा का पूरा अंचल पिछडेपन से जूझ रहा है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पूरे बुंदेलखंण्ड की इस शोषित और पिछडी आबादी के विकास का नया दृष्टिकोण (विजन) और रोड मेप लेकर यहॉ आ रहे है। केन्द्र में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद टीकमगढ समेत पूरे बुंदेलखण्ड के विकास के नये रास्ते खुलेगे। यह बात कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता डॉ. संदीप सबलोक तथा सिद्वार्थ राजावत ने आज यहा आयोजित पत्रकारवार्ता में कही है।

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की टीकमगढ़ (जातारा) में आयोजित होने वाली चुनावी आमसभा के संबंध में मध्यप्रदेश कांगेस कमेटी की ओर से सभा के लिए बनाये गये मीडिया संमंवयक डॉ. सबलोक तथा राजावत ने वणिज्य कर मंत्री ब्रजेन्द्र सिंह राठौर, लोकसभा प्रत्याशी किरण अहिरवार एआईसीसी के लोकसभा प्रभारी दीपक वैद्य, एससी विभाग के एआईसीसी कोडीनेटर संतोष त्रिवारी, पूर्व विधायक शंकर प्रताप सिंह बुंदेला व नारायण प्रजापति आदि की मौजूदगी में यहा आयोजित पत्रकारवार्ता में कहा कि आजाद हिंदुस्तान में राहुल गांधी जी ऐसे पहले नेता के रूप में उभरे है जिन्होने बुंदेलखण्ड के लोगो का दर्द और मर्म स्वयं आकर देखा और समझा है। उन्होने 2008 में इसी टीकमगढ़ और जतारा में आकर बुंदेलखण्ड की वास्तविक पीड़ा का अनुभव किया था। इस पीड़ा का ही परिणाम रहा है कि उन्होंने कांग्रेस की यूपीए सरकार के तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह जी से आग्रह कर बुंदेलखण्ड के विकास के लिए विशेष पैकेज दिलाया था। परंतु प्रदेश में भाजपा की शिवराज सरकार ने इस विशेष पैकेज का जो हश्र किया है तथा उसमें उजागर हुये घोटाले और भ्रष्टाचार के दोषियों पर कार्यवाही नहीं होना सिर्फ कांग्रेस की ही नहीं बल्कि आम जनता की भी पीड़ा है। तत्कालीन भाजपा सरकार की जांच ऐजेन्सीयों ने बुंदेलखण्ड पैकेज के अंतर्गत 100 करोड़ रूपये की पेयजल योजना तथा 7 हजार 8 सौ करोड़ के पैकेज में हुये घोटाले और भ्रष्टाचार को भी प्रमाणित किया है। इस प्रकार इस राशि से जितना अच्छा सुधार इस बुंदेलखंण्ड में हो सकता था वह नहीं हो पाया है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. संदीप सबलोक ने आरोप लगाया कि भाजपा के स्टार प्रचारक नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री रहते हुये पूरे बुंदेलखण्ड अंचल की घोर उपेक्षा की है। प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी जी ने एक बार भी इस पिछडे अंचल में आकर यहॉ के लोगो के दुख, तकलीफों और जरूरतों को जानने की कोषिष नहीं की है। 2014 के लोकसभा चुनाव के पहले बुंदेलखण्ड की जनता से वोट हासिल करने के लिए मोदी और उनकी पार्टी ने जो वायदे किये थे इन पॉच सालों में उन्हें पूरा करने के लिए जमीनी स्तर पर कोई काम नहीं किया गया है।

वाणिज्य कर मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर ने राहुल गांधी की आमसभा सम्बन्धी व्यवस्थाओं की जानकारी दी। पत्रकारवर्ता में डॉ. सबलोक ने अपने आरोपो में मोदी सरकार के 5 साल गरीब-मजदूर, व्यापारी-किसानों और नौजवानों के शोषण तथा पूॅजीपतियों के पोषण से भरे हुये है। आजाद भारत के 70 सालों में ऐसा पहली बार हो रहा है कि मोदी सरकार द्वारा न केवल खेती पर बल्कि खेती में उपयोग होने वाले साधनों पर टैक्स लगाकर अन्नदाता गरीब किसानों को लूटा गया है। मध्यप्रदेश में मामा-मामी की लूटेरी सरकार हटने के बाद भाजपा की केन्द्र सरकार द्वारा किसानों के साथ साजिष की जा रही है। उन्हें यूरिया और भावांतर का पैसा नहीं दिया जा रहा है। 33 हजार करोड़ रूपये के कृषि आयात द्वारा देशी कृषि उत्पादन को कमजोर कर गरीब किसान की कमर तोडी जा रही है। ऐसे में टीकमगढ और बुंदेलखण्ड का गरीब किसान कहा जायेगा यह चिंता का विषय है।

कांग्रेस प्रवक्ता डॉ. सबलोक तथा राजावत ने भरोसा जताते हुये कहा कि राहुल गांधी की यह सोच है कि यहॉ के विकास की जो भी योजनाएं अधूरी पड़ी है उनके लिए अलग से व्यवस्था कर पूर्ण कराया जावेगा। ताकि यहॉ की पेयजल तथा रोजगार की समस्या को समाप्त कर यहॉ से हो रहे पलायन को रोका जा सके।

०००००००००

LEAVE A REPLY