रामेश्वर के खिलाफ सिंधी समाज के बाद कोलार में भी पनप रहा आक्रोश ?

0
98

०-अवधेश पुरोहित
भोपाल। (हिन्द न्यूज सर्विस)। भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में सत्ता के अहम के चलते हुजूर के विधायक रामेश्वर शर्मा ने जहां अपनी पार्टी के नेताओं के साथ बम्बई फिल्मों की खलनायकी की तरह इलाकाबंदी के चलते उनके विधानसभा क्षेत्र में उनके अनुमति के बगैर घुसने की पाबंदी के कारण कई भाजपा नेताओं की यह स्थिति हो गई थी कि वह कोलार क्षेत्र में बिना रामेश्वर शर्मा की अनुमति के कोई कार्यक्रम नहीं कर पाए, फिर चाहे वह नगर निगम भोपाल के महापौर आलोक शर्मा ही क्यों न हों इस तरह की स्थिति से भाजपा के नेताओं ने रामेश्वर के आतंक के साये में पांच सालें गुजारे और वह रामेश्वर के खिलाफ कुछ बोल नहीं सके, तो वहीं हुजूर विधानसभा और खासकर कोलार में हुए पांच सालों रामेश्वर के कार्यकाल के दौरान तमाम विकास कार्यों में कमीशनखोरी का दौर भी खूब चला जिसके चलते सड़कें तो बनीं लेकिन कमीशनखोरी और गुणवत्ता के अभाव में वह चंद दिनों में ही अपने जनप्रतिनिधि की कमीशनखोरी की दास्तान दिखाई देने लगती थी, लगभग यही स्थिति क्षेत्र में हुए विकास कार्यों के बारे में क्षेत्र की जनता जिनमें भाजपा के लोग तो शामिल हैं ही तो वहीं तमाम वह भवन निर्माता भी अब दबी जुबान से रामेश्वर शर्मा की मनमानी को लेकर आक्रोषित तो नजर आ ही रहे हैं तो वहीं पांच साल में कोलार में हुए विकास के दस्तावेजों को भी इकट्ठे करने में लगे हुए हैं तो कुछ कोलार में बने ब्रिज के निर्माण में रामेश्वर शर्मा की मनमानी के चलते कई भवन निर्माताओं को फायदा पहुंचाने का जो खेल खेला गया उसे पूरी धांधली को उजागर करने की भी हिम्मत जुटाने में लगे हुए हैं, यह स्थिति तो उनके हुजूर विधानसभा क्षेत्र के साथ-साथ कोलार उपनगर की है, एक ओर जहां रामेश्वर शर्मा के सिंधी समाज के लिए आपत्तिजनक वीडियो वायरल होने से सिंधी समाज में रामेश्वर के खिलाफ नाराजगी खत्म होने का नाम नहीं ले रही बल्कि यह दिनों दिन और उग्र होती नजर आ रही है सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रामेश्वर शर्मा के खिलाफ यदि भारतीय जनता पार्टी ने कोई सख्त कार्यवाही न करते हुए उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता नहीं दिखाया तो रामेश्वर शर्मा की उस कथित वीडियो से आक्रोषित सिंधी समाज भोपाल व मध्यप्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश में रामेश्वर शर्मा के खिलाफ धरना-प्रदर्शन करने पर विचार कर रहा है तो वहीं जंतर-मंतर पर भी रामेश्वर शर्मा की गिरफ्तारी को लेकर प्रदेश के साथ-साथ पूरे देश के सिंधी समाज द्वारा रामेश्वर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दिये जाने की तैयारी की जा रही है। सिंधी समाज के इस तरह के आक्रोश के साथ-साथ भाजपा के कुछ नेताओं और कोलार के निवासी भी रामेश्वर शर्मा के सत्ता के अहम में विगत पाँच सालों में दुव्र्यवहार और क्षेत्र में हुए विकास कार्यों में हुए कमीशनखोरी को लेकर एक उग्र आंदोलन चलाने की भी योजना तैयार करने में लगे हुए हैं। इन सबको देखते हुए यह लगता है कि रामेश्वर शर्मा की आने वाले समय में परेशानियां कुछ कम होने वाली नहीं हैं? तो लोग यह चर्चा करते हुए भी नजर आ रहे हैं कि रामेश्वर शर्मा ने जिस तरह से सत्ता के अहम में पूरे पांच साल तक प्रदेश के अन्नदाताओं, अपने क्षेत्र के भवन निर्माताओं के साथ जिसत रह का व्यवहार किया है उन सबमें अब आक्रोश पनपने लगा है और यह आक्रोश कब ज्वालामुखी का रूप ले ले यह तो भविष्य बताएगा, लेकिन यह जरूर है कि रामेश्वर शर्मा की विकास कार्यों में कमीशनखोरी और चंदाखोरी को लेकर जमकर क्षेत्र में चर्चाओं का दौर जारी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह भी पता चला है कि कुछ लोग रामेश्वर शर्मा द्वारा विगत पाँच वर्षों में बनाई गई चल-अचल सम्पत्ति का ब्यौरा भी कुछ भाजपा नेता और क्षेत्र के प्रभावशाली लोगों के सहयोग से तैयार किया जा रहा है जिसे शीघ्र सार्वजनिक किया जाकर भाजपा के कथित सबका साथ, सबके विकास के चलते रामेश्वर शर्मा द्वारा कमाई गई सम्पत्ति का खुलासा किया जाएगा? रामेश्वर शर्मा को लेकर तरह-तरह की चर्चाओं को लोग चटकारे लेकर करते नजर आ रहे हैं देखना अब यह है कि विगत पाँच साल तक सत्ता के अहम में लोगों पर मनमानी करने वाले और अन्नदाताओं के खिलाफ अपशब्द कहने वाले रामेश्वर शर्मा के आने वाले दिन कैसे होंगे यह तो भविष्य बताएगा, लेकिन फिलहाल रामेश्वर शर्मा की परेशानियां कम होती नजर नहीं आ रही हैं।

०००००००००००

LEAVE A REPLY