योगी-मोदी एक ही नारा, जय श्री राम, जयश्री राम

0
7

०-हरिशंकर व्यास
अमित शाह ने जो सोचा था वह अब फलीभूत है। उनका योगी को मुख्यमंत्री बनवाना फायदेमंद रहा। योगी आदित्यनाथ आज वोटों की भगवा खेती के नंबर वन ब्रांड हैं। जयपुर की आदर्श नगर सीट पर योगी आदित्यनाथ की जनसभा में कार्यकर्ताओं में जोश, उन्माद की धुन में या तो हुंकारा जयश्री राम का था या ‘हिंदू नेता कैसा हो, योगी-मोदी जैसा हो’ का था! मतलब योगी पहले और मोदी बाद में। सो ताजा विधानसभा चुनाव की बानगी है। मैं पहले भी कई बार लिख चुका हूं। वापिस लिख रहा हूं कि मोदी-शाह का निश्चय हर सूरत में वापिस शपथ पत्र लेना है। इसका बीज मंत्र हिंदू-मुस्लिम होगा। इस मंत्र पर यूपी-बिहार में मायावती-अखिलेश के एलायंस के बावजूद उनसे ज्यादा वोट लेने की जुगत मोदी-शाह की होगी। इसमें मुख्य मददगार होंगे योगी आदित्यनाथ। जरा गौर करें कि राजस्थान में भाजपा का चुनाव प्रचार कितनी विपरीत स्थितियों में शुरू हुआ था और आखिर में कैसा हल्ला हुआ? उस सबमें, प्रदेश की एंटी इनकमबेंसी में अमित शाह-नरेन्द्र मोदी ने अपने आपको दूर रखा तो चुनाव को ऐन वक्त कैसे हिंदू बनाम मुस्लिम की धुरी, जयश्री राम, भारत माता की जय के हुंकारों में बदला। चुनाव के आखिरी दिनों में कैसा प्रबंधन बनवाया। कांग्रेस ने चुनाव को अपने पक्ष के माहौल के आत्मविश्वास और २०१४ के पहले के ढर्रे पर लड़ा। कई मुस्लिम उम्मीदवार खड़े किए तो भाजपा ने उनमें अधिकांश जगह योगी आदित्यनाथ की सभाएं कराई। चुपचाप हिंदू बना मुस्लिम में भगवा जमीन तैयार की। उन शहरी इलाकों में फोकस रखा जो संघ-भाजपा के पुराने गढ़ रहे हैं और जहां नरेन्द्र मोदी की इमेज का अभी भी मौन जलवा है। योगी आदित्यनाथ और नरेन्द्र मोदी एक और एक ग्यारह होते हैं, इसे समझते हुए अमित शाह ने प्रचार को जितना मोडऩा चाहा, मोडऩे की कोशिश की। राजस्थान में योगी आदित्यनाथ या तेलंगाना में योगी की औवेसी को ललकार और फिर पूरे देश में लगातार आठ-दस दिन टीवी चैनलों पर हिंदू बनाम, मुस्लिम नेरेटिव कुल मिला कर उन मतदाताओं के लिए है जो पांच साल की आर्थिक दिक्कतों से भाजपा सरकारों से मोहभंग की स्थिति में हैं लेकिन दिल के कोने में हिंदू होने व नरेन्द्र मोदी से हिंदुओं की रक्षा की सोच लिए हुए है। सवाल है यह हिंदू हुकारा, योगी आदित्यनाथ का हिंदू ब्रांड क्या नरेंद्र मोदी-वसुंधरा राजे की आर्थिक बरबादी, बेरोजगारी, परेशानियों वाली कहानियों को दबवा सकता है? सचमुच यह सोचने वाली बात है कि मोदी-शाह जनमानस से मोहभंग लिए है और उनका कल्याण आदि अब योगी आदित्यनाथ, हिंदु हुंकारे से है तो पांच साल का जनता का अनुभव क्या विस्मृत हो सकता है? मैं जैसे नोटबंदी के बाद से लगातार लिखता रहा हूं कि लोगों का जीना हराम है। चौतरफा बबादी और भटकाव है और मोदी राज की रीति-नीति मूर्खताओं का एवरेस्ट है तो उस माफिक जनता का मनेाभाव है या नहीं? मैं मानता हूं कि जनता में मोहीांग का मनोभाव ही भाजपा की प्रदेश सरकारों के लिए कब्रिस्तान है। उसी में बदलाव की हवा है। अपना अनुमान है कि रमनसिंह या शिवराज सिंह चौहान अपनी पोजिटिव पकड़ से भले बदलाव को कुछ रोकें, लेकिन मोटे तौर पर ११ दिसम्बर को मनोभाव भाजपा का फैसला करवाएगा। खुद जनता मौन रहते हुए चुनाव लड़ रही है। कांग्रेस की गलतियों, कमियों, मूर्खताओं के बावजूद जनता कांग्रेस को जिताएगी। जनता है जो सब जानती है और उसने नोटबंदी के बाद बदहाली के दस तरह के जो अनुभव किए हैं वे जनादेश में बोलेंगे। लोगों का अनुभव उस अनुसार उसकी बनी सोच को मतदान से महीने पहले प्रचार, योगी-मोदी के भारत माता, जयश्रीराम के हुंकारे, हिन्दू-मुस्लिम अमित शाह के ऐन वक्त के माइक्रो प्रबंधन को भुलवाया नहीं जा सकता है। अपना सोचना सही नहीं, यह ११ दिसम्बर को जनादेश से मालूम होगा। कई लोग, अच्छे जानकार चुनाव नतीजों में इन दिनों ईवीएम मशीन को भी ले आते हैं। मैं ईवीएम से धांधली की बात नहीं मानता हूं। यदि यह है तो फिर सवा सौ करोड़ लोगों की नियति, लोकतंत्र पर कुछ विचार ही नहीं करना चाहिए। सो कुल मिलाकर छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान के चुनाव जयश्रीराम बनाम पांच साल में पके जन मनोभावों के बीच ११ दिसम्बर को फैसला करानेे वाले हैं। इसी में सवाल है कि योगी आदित्यनाथ पर मोदी-शाह क्या अधिक निर्भर नहीं हो गए हैं? हिंदू नेता कैसा हो योगी-मोदी जैसा हो, में योगी का पहले नाम प्रमाण है कि उनकी भगवा वेशभूषा आगे अप्रैल २०१९ में नरेन्द्र मोदी का नंबर एक सहारा होगी। नरेन्द्र मोदी और अमित शाह का संकट है कि जिस हिंदू-मुस्लिम झगड़े, मंदिर मुद्दे पर लोकसभा का चुनाव लडऩा है उस एजेंडे में इनका पांच साल का रिकार्ड जीरो है। दोनों यह दावा नहीं कर सकते कि उन्होंने मंदिर के लिए, गौरक्षा के लिए फलां काम किया। तभी इनके हिंदू हितकारी होने का सर्टिफिकेट भगवा वस्त्रधारी योगी के प्रचार से बनता है। देश के सबसे बड़े प्रदेश का मुख्यमंत्री इन्होंने भगवा वस्त्रधारी महंत को बनाया तो इस उपलब्धि का साक्षात प्रचार ही योगी की जनसभाओं से मोदी-शाह का हल्ला बनवाएगा। तभी सोचने वाली बात है कि इन विधानसभा चुनावों के बाद मोदी-शाह २०१४ के अपने हिंदू मतदाताओं को फिर पटाने के लिए योगी आदित्यनाथ का कितना सघन उपयोग करेंगे? तेलंगाना में योगी का अभी जो उपयोग हुआ है उसने यह खटका बनाया है कि उन्हीं के जरिए राष्ट्रीय स्तर पर हिंदू बनाम मुस्लिम राजनीति पकेगी। इन चुनावों में भाजपा हारे या जीते, मोदी-शाह के लिए योगी आदित्यनाथ की शरण में रहना, उन पर निर्भर रहना अब अनिवार्यता है। हां, समझे इस नारे को कि हिंदुओं का नेता कैसा हो, योगी-मोदी जैसा हो! सोचे, कितना दिलचस्प है भगवा राजनीति का यह मोड जिसमें योगी से बेड़ा पार लगावने के लिए नरेन्द्र मोदी आश्रित हो रहे हैं। पहला हिंदू नेता योगी उसके बाद फिर हैं नरेन्द्र मोदी!
०-नया इंडिया के कालम ”अपन तो कहेंगे!’ से साभार)
००००००००००००००००

LEAVE A REPLY