भोपाल में दिग्गी और प्रज्ञा

0
43

०-डॉ. वेदप्रताप वैदिक
आजकल मैं अपने गृह-नगर इन्दौर में हूँ। यहां के अखबार दिग्विजय सिंह और प्रज्ञा ठाकुर से भरे पड़े हैं। दिग्गी राजा कांग्रेस और प्रज्ञा भाजपा की उम्मीदवार हैं। माना यह जा रहा है कि भोपाल की यह टक्कर देश की दिशा तय करेगी। यह क्षेत्र ही यह तय करेगा कि लोकसभा का यह चुनाव किस मुद्दे पर लड़ा जाएगा। आतंकवाद के मुद्दे या विकास के? दिग्गी और प्रज्ञा, दोनों ठाकुर हैं। इसीलिए इनके बीच जातिवाद का तो कोई मुद्दा हो ही नहीं सकता। भोपाल यों भी ठाकुर-बाहुल क्षेत्र नहीं है। दिग्गी पर आरोप है कि ‘भगवा आतंकवादÓ शब्द उन्होंने ही गढ़ा था और यह शब्द ‘इस्लामी आतंकवादÓ के जवाब में तब चला था, जब २००८ में मालेगांव विस्फोट में कई मुसलमान मारे गए थे। उसी के आरोप में प्रज्ञा गिरफ्तार हुई थीं और उन्होंने दस साल जेल काटी थी। अब भाजपा के उम्मीदवार के दौर पर प्रज्ञा धु्रवीकरण का प्रतीक बनेंगी। वे भोपाल के हिंदू वोट एकमुश्त पाने की कोशिश करेंगी। भोपाल के २१ लाख मतदाताओं में सिर्फ ४.५० लाख मुसलमान मतदाता हैं। यदि धु्रवीकरण हो गया तो दिग्गी राजा की हार सुनिश्चित है लेकिन दिग्गी अपने आपको किंसी हिंदू से कम नहीं समझते। वे निष्ठावान हिंदू हैं। पूजा-पाठ करते हैं। वे राहुल गांधी की तरह दिखावटी हिंदू नहीं हैं। लेकिन चुनाव अभियान के दौरान अपने ‘ओसामाजीÓ शब्द और बटाला हाउस के आतंकवादियों के लिए बोले गए सहानुभूतिपूर्वक शब्द उनके गले के पत्थर बन जाएंगे। यों प्रज्ञा के अनेक उग्रवादी बयान भी लोगों को याद हैं लेकिन वे धु्रवीकरण में मदद ही करेंगे। इसीलिए दिग्गी ने अपने समर्थकों से कहा है कि वे विकास को मुद्दा बनाएं। आतंकवाद को मुद्दा बनने ही न दें। लेकिन यह बने बिना रहेगा ही नहीं, क्योंकि भाजपा का अब वही ब्रह्मास्त्र बन गया है। पुलवामा, बालाकोट और अब दिग्विजय-इन तीनों शब्दों की टंकार अब सारे देश में सुनी जाएगी। राजनैतिक दृष्टि से दिग्गी राजा और प्रज्ञा ठाकुर की कोई तुलना है ही नहीं लेकिन प्रज्ञा भगवाधारी हैं, स्त्री हैं और उन पर हुए पुलिस अत्याचारों की कहानी अत्यंत लोहमर्षक है। अत: वे दिग्विजय सिंह पर भारी पड़ सकती हैं। इन्दौर से सुमित्रा महाजन नहीं लड़ रही हैं। इसीलिए भोपाल की सीट मप्र में सबसे ज्यादा ध्यानाकर्षण हो गई है। भगवा आतंकवाद और विकास की टक्कर के कारण सारे देश का भी ध्यान उस पर जाए बिना नहीं रहेगा।
०-नया इंडिया से साभार)
०००००००००००००००

LEAVE A REPLY