भारत ने हमला किया तो करारा जवाब देगा पाकिस्तान -इमरान खान

0
165

इस्लामाबाद।(हिन्द न्यूज सर्विस)। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले के मुद्दे पर आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बयान जारी किया। इमरान खान ने मंंगलवार को कहा कि भारत सरकार ने बिना किसी सबूत के पाकिस्तान पर इल्जाम लगाएं हैं। उन्होंने कहा कि जंग शुरू करना आसान है, लेकिन उसे खत्म करना इंसान के वश में नहीं रह जाता। यदि जंग हुआ तो पाकिस्तान इसका करारा जवाब देगा।

पाक पीएम इमरान ने कहा कि आखिर पाकिस्तान ऐसा क्यों करेगा? इससे हमें क्या फायदा? अगर भारत की सरकार हमें कोई सबूत देगी तो हम इस मसले पर जांच करने के लिए तैयार है। अपने बयान में इमरान ने कहा कि पिछले 15 साल से हम आतंकवाद के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं। हर बार कश्मीर में कुछ भी होता है तो पाकिस्तान पर इल्जाम लगाया जाता है।

इमरान ने कहा कि भारत हमेशा आतंकवाद पर बातचीत करने को कहता है, हम आतंकवाद पर बातचीत करने को तैयार हैं। मैं एक बार फिर बताना चाहता हूं कि ये नया पाकिस्तान है। नए पाकिस्तान में दहशतगर्दी की कोई जगह नहीं है। पाकिस्तान हर जांच के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, ‘कोई भी जंग करना आसान है, लेकिन खत्म करना नहीं। जंग के बाद ये कहां तक जाएगी, कोई नहीं बता सकता।’

उन्होंने कहा कि सऊदी अरब के प्रिंस का दौरा था, इसलिए पुलवामा हमले के आरोप का पहले जवाब नहीं दिया। पाकिस्तान प्रिंस के दौरे के वक्त ऐसी हरकत क्यों करेगा जिससे कि स्थिति खराब हो, हम खुद 15 साल से आतंकवाद से लड़ रहे हैं। हम पुलवामा हमले में कोई भी पाकिस्तान का दोषी हो तो कार्रवाई को तैयार है। हमें दहशतगर्दी से सबसे ज्यादा नुकसान हुए है, हमारे 7000 लोग मारे गए हैं।

पाकिस्तानी पीएम ने कहा, हम दहशतगर्दी पर भी बात करने को तैयार हैं। भारत सोचे कि कश्मीर के युवा मरने-मारने पर क्यों उतर आए? इमरान के बयान से पहले ही भारतीय सेना ने कहा था- पुलवामा हमले में पाक सेना का हाथ है। 14 फरवरी को पुलवामा के लेथपोरा में हुए फिदायीन हमले में भारत के 40 जवान शहीद हो गए थे। 18 फरवरी को सुरक्षा बलों ने हमले के मास्टरमाइंड कामरान को पुलवामा के पिंगलेना में मार गिराया।

पाकिस्तानी पीएम ने कहा, ‘भारत अगर पुलवामा आतंकी हमले की किसी तरह की जांच कराना चाहता है तो हम तैयार हैं। अगर उनके पास इस हमले में पाकिस्तान के शामिल होने का सबूत है तो वे हमें दें, हम ऐक्शन लेंगे। हमपर किसी प्रकार का दबाव नहीं है। अगर कोई पाकिस्तान की जमीन हमारे खिलाफ इस्तेमाल कर रहा है, तो यह सही नहीं है।’

इमरान ने ने कहा कि जब पाकिस्तान स्थायित्व की तरफ जा रहा है, तब हम क्यों दहशतगर्दी की तरफ जाएंगे? मैं भारत सरकार से कहना चाहता हूं कि आप बार-बार पाक को क्यों जिम्मेदार बताते रहेंगे। हम स्टेबिलिटी चाहते हैं। हमारा अब नया पाकिस्तान है। आप किसी भी तरह की जांच कराना चाहते है तो हमें बताएं। हम एक्शन लेंगे। ये इसलिए लेंगे क्योंकि अगर कोई पाकिस्तान की जमीन इस्तेमाल कर रहा है तो कार्रवाई होगी।

पाकिस्तानी पीएम ने कहा, “मैं भारत से कहता हूं कि आपके पास कोई सबूत है तो मैं गारंटी देता हूं कि हम कार्रवाई करेंगे। ऐसा किसी के दबाव में नहीं कर रहे। हम आतंकवाद पर बात करने के लिए तैयार है। हम इससे सबसे ज्यादा परेशान हैं। कश्मीर के युवा इस हद तक उतर चुके हैं, कोई तो वजह होगी।”

उन्होंने कहा, कि भारत में चुनाव का साल है और वहां नेता पाकिस्तान को सबक सिखाने की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘दुनिया की कौन सा कानून है जो किसी भी एक शख्स या मुल्क को जज, ज्यूरी और सजा की शक्ति देती है। अगर आप यह सोचते हैं कि आप पाकिस्तान पर हमला करेंगे तो हम भी पलटवार करेंगे। उसके बाद बात किधर जाएगी किसी को पता नहीं।’

इमरान खान ने कहा कि आतंकवाद एक बड़ा मुद्दा है और इसे हम खत्म करना चाहते हैं। कश्मीरियों को आज मरने का डर नहीं है, इसके पीछे कोई तो वजह होगी। क्या इसपर उनसे चर्चा नहीं होनी चाहिए? उन्होंने कहा कि भारत को अफगानिस्तान से सीखने की जरूरत है। सेना के नियंत्रण से कोई मसला हल नहीं होगा। लंबे समय से सेना का नियंत्रण है, बातचीत से ही हल होगा। कश्मीर का मुद्दा भी अफगानिस्तान की तरह ही बातचीत से हल होगा।

इससे पहले कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकी हमले के बाद दुनिया से अलग-थलग पड़ चुके पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) से गुहार लगाई है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने यूएन से मांग की है कि आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के बीच उपजे तनाव को कम करने के लिए तत्काल हस्तक्षेप करना चाहिए।

बता दें कि 14 फरवरी को पुलवामा जिले में पाकिस्तान में सक्रिय आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा किए गए आत्मघाती हमले में कम से कम 41 केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान मारे गए थे।

००००००००००

LEAVE A REPLY