भाजपा की सत्ता की भूख अब बुरी हवस में बदल गई-मायावती

0
83

लखनऊ। (हिन्द न्यूज सर्विस)। बहुजन समाजवादी पार्टी(बसपा)के एक सदस्य के विधान परिषद से इस्तीफे पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज कहा कि भाजपा की सत्ता की भूख अब बुरी हवस में बदल गई लगती है और इसके लिये सत्ता व सरकारी मशीनरी का जिस प्रकार से जबर्दस्त खुला दुरूपयोग किया जा रहा है, वह अति-निन्दनीय है क्योंकि इससे देश का लोकतंत्र ही खतरे में पड़ गया है। माणिपुर, गोवा … बिहार और फिर गुजरात के बाद अब उत्तर प्रदेश का ताजा राजनीतिक घटनाक्रम इस बात का स्पष्ट प्रमाण है कि मोदी सरकार ने लोकतंत्र का भविष्य खतरे में डाल दिया है।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि भाजपा की सत्ता की भूख अब बुरी हवस में बदल गई लगती है और इसके लिये सत्ता व सरकारी मशीनरी का जिस प्रकार से जबर्दस्त खुला दुरूपयोग किया जा रहा है, वह अति-निन्दनीय है क्योंकि इससे देश का लोकतंत्र ही खतरे में पड़ गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा गुजरात में सरकार का ऐसा घोर दुरुपयोग कर रही है कि विधायकों को अपना राज्य छोड़कर सुरक्षित जगह जाने को मजबूर होना पड़ रहा है और कोई भी संवैधानिक संस्था अपनी भूमिका को निभाने में असमर्थ सी नजर आ रही है।

उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश के गैर-भाजपा विधायकों को, जिसमें सपा के दो एमएलसी और बसपा के एक एमएलसी ठाकुर जयवीर सिंह आदि को भाजपा सरकार के आगे अपने घुटने टेकने के बजाय, भाजपा सरकार के शोषण व आतंक से हर प्रकार से मुकाबला करना चाहिये था तथा उनके आगे अपने हथियार कतई नहीं डालने चाहिये थे। मायावती ने कहा, ऐसा करके ही फिर भाजपा सरकार की विद्वेषपूर्ण, अहंकारी, दमनकारी व तानाशाही रवैये वाली कार्रवाइयों को रोका जा सकता है अर्थात उनके आगे घुटने टेकने से अब उनकी हिम्मत और भी ज्यादा बढ़ती चली जायेगी क्योंकि उनके मुँह में अब खून लग चुका है, यह जग-जाहिर है।

मायावती ने कहा कि भाजपा ने अपनी गलत नीतियों, कार्यों व भ्रष्टाचार आदि पर से लोगों का ध्यान बाँटने के लिये प्रतिपक्षी नेताओं को भ्रष्ट साबित करने का खुला अभियान चलाया हुआ है जो अति-निन्दनीय के साथ-साथ लोकतंत्र के लिये खतरा भी है। पश्चिम बंगाल व उड़ीसा की सरकारें भी भाजपा के सरकारी आतंक से पीडि़त हैं।

०००००००००

LEAVE A REPLY