नौनिहालों के मुंह का निवाला मोदी जी भाजपाई नेताओं ने ही छीना

0
20

०-अवधेश पुरोहित
भोपाल। (हिन्द न्यूज सर्विस)। पिछले दिनों प्रदेश की राजनीति में मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों के यहां दिल्ली से आई आयकर टीम ने छापामारी की इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मध्यप्रदेश की कमलनाथ और उसकी सरकार को चुनावी मुद्दा बनाकर रोज नित्य नये-नये आरोप लगाने का दौर शुरू कर दिया और इसी दौर में उन्होंने जूनागढ़ की एक सभा में यहाँ तक कहा कि यह चौकीदार चौकन्ना है, कांग्रेस के घोटालों में अब एक नया नाम जुड़ गया है कई नामों से कांग्रेस की पहचान घोटालों से जुड़ी है लेकिन अब सुबूतों के साथ हवाबाजी नहीं… सबूतों के साथ एक नया घोटाला कांग्रेस और उसके नेताओं के नाम जुड़ गया है और वो है ‘तुगलक रोड चुनावी घोटालाÓ कांग्रेस गरीब बच्चों के मुंह से निवाला छीनकर, उनको मिलने वाले आहार को छीनकर अपने नेताओं का पेट भर रही है। महिलायें-बहनें सुनो कांग्रेस गर्भवती महिलाओं के लिये भेजी गई राशि को लूट रही है। बीते तीन-चार दिन से आप देख रहे हैं कि कैसे कांग्रेसियों के पास बोरा भरके नोटों की गड्डियां मिल रही हैं। रुपये कहां-कहां जा रहा है, किसके घर निकला, कहां पहुंचा, सब छन-छनकर सामने आ रहा है। मध्यप्रदेश में सरकार बने अभी छ: महीने भी नहीं हुए, कांग्रेस ने पहले कर्नाटक को अपना एटीएम बनाया हुआ था, अब मध्यप्रदेश भी कांग्रेस का एटीएम बन गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पार्टी के चुनावी प्रत्याशियों के प्रचार के दौरान जूनागढ़ में दिये इस तरह के भाषण के बाद प्रदेश की राजनीति में तरह-तरह की चर्चाओं का दौर जारी है और लोग यह कह रहे हैं कि क्या जमाना आ गया उल्टा चोर कोतवाल को डंाटे वाली कहावत भारतीय जनता पार्टी के नेता चरितार्थ करने में लगे हुए हैं, वह यह भूल जाते हैं कि जो नरेन्द्र मोदी को दुबारा सत्ता में काबिज करने के लिये भाजपा का अमित शाह से लेकर हर छोटा-बड़ा नेता लगा हुआ है उसे यह नहीं मालूम कि मोदी के इस जुमले की, ‘ना खाऊंगा, ना खाने दूंगाÓ के बाद इस प्रदेश में कितना भ्रष्टाचार हुआ तो वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के शासनकाल के १५६ महीनों में १५६ घोटाले का दौर भी इस प्रदेश की जनता ने देखा है जिस प्रदेश में अभी तीन माह पहले प्रदेश में कांग्रेस को बने हुए हैं और उसमें केन्द्र की आयकर टीम के द्वारा जो छापामारी का दौर चला तो वहीं शिवराज सिंह के शासनकाल में फला-फूला अश्विन शर्मा जो स्वयं आयकर छापे के दौरान चिल्ला चिल्लाकर कह रहा था मैं कांग्रेस का नहीं बल्कि भाजपा का आदमी हूँ तो वहीं बाद में उसने यह भी स्वीकार किया कि मैं कांग्रेस के शासनकाल में फला-फूला हूँ, उसी दौरान मेरी सम्पत्ति में इजाफा हुआ लेकिन शायद अश्विन शर्मा के यह शब्द कमलनाथ से मेरे संबंध नहीं मैं भाजपा की विचारधारा का हूँ, यह शब्द प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सलाहकारों को सुनाई नहीं दिया होगा तभी तो नरेन्द्र मोदी आयकर विभाग के छापों में मिले नोटों के बोरों कांग्रेसियों के नाम जोड़ रहे हैं तो वहीं जूनागढ़ में नौनिहालों के निवालों पर डाका डालने वालों में कांग्रेसियों का नाम जोड़कर उनका नाम जोडऩे में लगे हुए हैं लेकिन शायद उन्हें यह नहीं मालूम की उनका ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा, के जुमले के चलते क्या-क्या घटनाएं घटित नहीं हुईं आज भले ही सत्ता में पुन: काबिज होने की खातिर अपने भाजपा के प्रदेश की सत्ता के कार्यकाल में हुए घोटालों का ठीकरा कांग्रेसियों पर फोडऩे में लगे हुए हैं लेकिन इस राज्य का हर जागरूक नागरिक जानता है कि मध्यप्रदेश में नौनिहालों के निवाले पर डाका डालने का काम शिवराज सरकार में सक्रिय सत्ता की वह अदृश्य देवी के संरक्षण में किस अधिकारी की कारगुजारी के चलते अधिकांश निवाला सत्ता की उस अदृश्य देवी के चहेते अधिकारियों और ठेकेदारों ने निगला और उसका अधिकांश प्रतिशत सत्ता की उस देवी की भेंट चढ़ा। इसका पता शायद नरेन्द्र मोदी को नहीं है तभी तो वह इस तरह के बयानबाजी कर रहे हैं उन्हें यह भी नहीं पता कि शिवराज के शासनकाल में प्रदेश में कुपोषण का कलंक मिटाने के नाम पर करोड़ों रुपये कागजों में खर्च हुए लेकिन आज भी वह कुपोषण का कलंक इस प्रदेश के माथे से नहीं मिट पाया, हाँ यह जरूर है कि उन कुपोषित नौनिहालों के निवाले पर डाका डालकर सत्ता की उस देवी के संरक्षण में कई जरूर मालामाल हो गए। प्रदेश के आम मानस में यह चर्चा लोग चटकारे लेकर करते नजर आ रहे हैं कि उल्टा चोर कोतवाल को डांटे वाली कहावत भाजपाई चरितार्थ करते नजर आ रहे हैं, जबकि नौनिहालों के निवाले पर डाका प्रदेश की भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान जमकर चला था, तो वहीं अधिकांश कांग्रेस के कई नेता और जागरूक नागरिक कमलनाथ से यह अपील कर रहे हैं कि वह इस प्रदेश में लम्बे समय से चला आ रहा नौनिहाल बच्चों के निवाले पर डाका डालने वालों के चेहरे पर पड़े नकाब को उठाकर उन नौनिहालों के बच्चों के निवालों को सुरक्षा प्रदान करें।

००००००००००

LEAVE A REPLY