तो मोदी के पीएम होंगे नीतीश !

0
38

०-हरिशंकर व्यास
मैंने बहुत पहले लिखा था कि मोदी-जेटली ने नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री बन सकने का सपना दिखाया हुआ है। उसके बाद खबर थी कि अमित शाह ने प्रशांत किशोर को नीतीश कुमार के यहां प्लांट कराया। नीतीश कुमार के ही हवाले मालूम हुआ कि प्रशांत किशोर हकीकत में मतोदी-शाह के आदमी हैं न कि उनकेक। तभी कांग्रेस और बाकी पार्टियां में वह अफवाह विश्वास बदली की प्रशांत किशोर को कांग्रेस में मोदी-शाह ने प्लांट कराया तो जगन मोहन आदि के यहां भी मोदी के गेम प्लान से प्रशांत किशोर चुनावी विशेषज्ञता बेच रहे हैं। तभी यह खबर हैरानी वाली नहीं थी कि उद्धव ठाकरे के यहां भी प्रशंात किशोर पहुंचे हैं। नरेन्द्र मोदी, अमित शाह जब उद्धव ठाकरे की केमिस्ट्री नहीं बना पा रहे हैं तो प्रशांत किशोर परोक्ष तौर पर चुनाव लड़ाने की विशेषज्ञता के ठेके के हवाले शिवसेना को मैनेज करेंगे। वही होता लगता है। उद्धव ठाकरे और शिव सेना के नेताओं को प्रशांत किशोर ने समझाया है कि नरेन्द्र वापिस प्रधानमंत्री नहीं बन रहे हैं। प्रधानमंत्री तो कोई और बनेगा। खबर अनुसार उन्होंने शिव सेना के नेताओं की बैठक में नीतीश कुमार का नाम लिया। पर अपनी राय में यह भी मुमकिन है कि उन्होंने उद्धव ठाकरे की थ्योरी बेची हो कि अभी आप यदि भाजपा से, मोदी-शाह के कहे अनुसार सीट बंटवारा कर लें, रिश्ता बनाए रखें तो चुनाव के बाद आप भी प्रधानमंत्री बन सकते हैं। इसलिए कि संघ और भगवा ताकतें नीतीश कुमार को नहीं, बल्कि उद्धव ठाकरे को प्रधानमंत्री बनाना पसंद करेंगी! हां, प्रशांत किशोर भाजपा से शिव सेना का एलायंस बनवाएं रखने, सीट बंटवारे की सहमति का मिशन लिए हुए भी हो सकते हैं। आखिर नीतीश कुमार ने यह बताया हुआ है वे तो अमित शाह के आदमी हैं! हालांकि अपना मानना है कि वे मूलत: नरेन्द्र मोदी के हैं। सोच सकते हैं नीतीश कुमार के पीएम बनने की बात कितनी फालतू! पर राजनीति संभावनाओं का खेल है। यह भी तय मानें कि नरेन्द्र मोदी और अमित शाह अपनी सभाओं की भीड़ को समझ रहे हैं। मोदी को खुद वापिस प्रधानमंत्री बनने के अवसर कम लग रहे होंगे तो वे सिनोरियो बूझते हुए आगे अपनी सुरक्षा के लिए, सीबीआई-ईडी जैसी एजेंसियों से अपने बचाव की चिंताओं में वैसी सरकार, प्रधानमंत्री बनवाने का विकल्प भी सोचे हुए होंगे, जिससे उनका बचाव रहे। अपनी थीसिस है कि नरेन्द्र मोदी की पहली कोशिश अरुण जेटली को अगली खिचड़ी में प्रधानमंत्री बनाने की होगी। भाजपा को १५० से १८० सीटें मिली तो एनडीए के उद्धव ठाकरे हों या नीतीश कुमार कोई भी मोदी को प्रधानमंत्री बनाने को तैयार नहीं होगा। न ही फिलहाल तटस्थ नजर आ रहे नवीन पटनायक या जगन मोहन या चन्द्रशेखर राव किसी सूरत में नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री बबनने का समर्थन देंगे। गुजराती सेठ लोग पैसे की तिकतनी ही बोरियां खेालें, चन्द्रशेखर राव या जगन मोहन नवीन पटनायक के लिए पैसा मतलब वाली नहीं है। उन्हें दिल्ली की सत्ता में सीधी-खुली धमक चाहिए तो ये इसके लिए किसी क्षत्रप को या बिना जनाधार वाले नेता को प्रधानमंत्री बनाना चाहेंगे। फिर नरेन्द्र मोदी और अमितशाह ने अरुण जेटली को स्वीकार्य बनवाने की कोशिश की तो यह भी संभव है कि भाजपा के अगली संसद में चुने सांसद सीधे मोदी को ठेंगा बताएं और संघ भी सहमत नहीं हो। तभी नतीजा कुमार के लिए अरुण जेटली ने गाजर लटकाई हुई है तो नरेन्द्र मोदी, अमित शाह, बिहार की लोकसभा सीटों के बंटवारे में भाजपा की जीती सीटें भी जनता दल यू के लिए छोडऩे को तैयार हुए हैं। मामूली बात नहीं है जो भाजपा ने २०१४ में बिहार में २२ सीटें जीतीं। मगर अगले चुनाव में वह १७ ही सीटों पर चुनाव लड़ेगी। नीतीश कुमार और उद्धव ठाकरे को जैसे भी हो एलायंस में बनाए रखा जाए, इसकी कोशिश ही चुनाव जीतने से ज्यादा प्रधानमंत्री नहीं बन सकने की स्थिति में अपने विकल्प बनाने में मोदी-शाह के रोडमैप वाली बात है। और इसे शिव सेना के आला जमावड़े में प्रशांत किशोर ने लोक कर दिया। ‘द इकॉनामिक टाइम्स’ में छपी खबर के अनुसार शिव सेना के नेताओं को प्रशंात किशोर ने बताया कि लोकसभा त्रिशंकु आई तो भाजपा (मोदी) के लिए अपने नेतृत्व मेमं सरकार बनाना संभव नहीं होगा। तब गैर-एनडीए पार्टियों के ‘लगभग एक सौ सांसद’ नीतीश कुमार जैसे व्यक्ति को गेर-कांग्रेसी सरकार का नेतृत्व करने के लिए चुनेंगे। उन्होंने आगे आंध्र की वाईएसआर कांग्रेस पार्टी, तेलंगाना की टीआरएस, ओडि़शा की बीजू जनता दल और तमिलनाडुु की अन्ना डीएमके पार्टी का नाम लिया। मतलब ये कि नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री बनाए जाने के संभावी समर्थक हो सकते हैं। क्या मुंगेरीलाल का सपना है! पहली बात नीतीश कुमार और उनकी पार्टी बिहार में दस लोकसभा सीटें भी जीत जाए तो बड़ी बात होगी। मान दो दस-बारह सीट जीते तब भी १५ सीट जीतकर चन्द्रशेखर राव क्या नीतीश के लिए गद्दी छोड़ेंगे? आज की तारीख मेेंं क्षत्रपों में सर्वाधिक महत्वाकांक्षी कोई है, प्रधानमंत्री पद का दो टूक मिशन लिए कोई है तो वह चन्द्रशेखर राव हैं। फिर जगन रेड्डी को भ्रष्टाचार, मनी लांडरिंग के भयावह आरोपों की जांच को प्रशांत किशोर ने चाहे जितना नरेन्द्र मोदी से (सीबीआई-ईडी पूरी तरह आंख मूंदे हुए है) दबवाया हुआ है मगर जगहन मोहन की बदनामी इतनी अधिक है कि मोदी-शाह के चाहने के बावजूद संघ-भाजपा उनसे परोक्ष नाते को भी तैयार नहीं होंगे। किस मुंह नीतीश कुमार या अरुण जेटली अपने गले जगन मोहन को लगा उनके समर्थक प्रधानमंत्री बनने का पैंतरा चलेंगे? अपन ने हिसाब लाया हुआ (रविवार के गपशप में राज्यवार फिर बताऊंगा) है कि अगले चुनाव में जगन मोहन, नवीन पटनायक, चन्द्रशेखर राव, अन्ना डीएमके की कुल सीटें ५५ का आंकड़ा पार नहीं करने वाली हैं। एनडीए १७० पर अटकेगी तो ५५ जोड़ लें तब भी २२५ सीटों पर मोदी-जेटली-प्रशांत किशोर जैसे रोडमैप को आगे बढ़ा सकेेंगे? मगर नरेन्द्र मोदी-अमित शाह की जान क्योंकि अटकी हुई है और राजनीति संभावनाओं का खेला है तो प्रशांत किशोर चुनाव बाद किंगमेकर की खामोख्याली में यदि हैं तो हैं! कोई क्या कर सकता है? अपनी शुभकामना कि वे नीतीश कुमार को या उद्धव ठाकरे को प्रधानमंत्री बनाए! उन्होंने २०१४ में चाय पर चर्चा के जुमले पर नरेन्द्र मोदी के ‘किंगमेकर’ होने का जलवा बनाया तो आगे भी क्यों न नीतीश कुमार, उद्धव ठाकरे या जगन रेड्डी के सामने प्रधानमंत्री पद की गाजर लटकवा कर वापस किंगमेेकर बनने का ख्याल पकाएं!
०-नया इंडिया के कालम ”अपन तो कहेंगे!’ से साभार)
००००००००००००००००००००००००

LEAVE A REPLY