किसान के संकट की घड़ी में संवेदना की आड़ में राहुल गांधी का राजनैतिक पर्यटन सोचनीय- अभिलाष पाण्डे

0
97

भोपाल। (हिन्द न्यूज सर्विस)। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अभिलाष पाण्डे ने कहा कि किसान की समस्या कांग्रेस के छ: दशकों के एक छत्र शासन की देन है। इसमें बाजारवाद ने आग में घी डालने का काम किया है। ऐसे में मंदसौर की त्रासद घटना के बाद राजनैतिक पर्यटन के रूप में राहुल गांधी का दौरा महज राजनैतिक रोटियां सेकना रहा है। यूपीए के 10 वर्षो के शासनकाल में जब राहुल गांधी के रिमोट कंट्रोल से सरकार चलती थी। कभी राहुल गांधी ने किसान को हाशिए से बाहर निकालने का प्रयास नहीं किया। उल्टे खाद बीज के दाम बढ़ा दिए। इस महंगाई के लिए विश्व में बढ़ती महंगाई पर ठीकरा फोड़ दिया। कांग्रेस विपक्ष में है लेकिन विपक्ष की भी लोकतंत्र में भूमिका है। कांग्रेस अपनी भूमिका में अपराधिक रूप से विफल सिद्ध हो चुकी है। अलबत्ता सत्ता लोलुपता के मोह में सरकार को अस्थिर करने की भूमिका में जुटी है। किसान आंदोलन को हिंसक मोड़ देने में उसकी भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि देश का किसान एक सांस्कृतिक परंपरा का साधक है। जिस तरह आंदोलन ने हिंसक मोड़ लिया है वह किसान की प्रतिबद्धता से मेल नहीं खाता और घटना क्रम इस बात का साक्षी है कि कांग्रेस की नकारात्मक भूमिका का नतीजा है।

अभिलाष पाण्डे ने कहा कि प्रदेश के युवा मोर्चा कांग्रेस की इस नकारात्मक भूमिका को पहचान चुका है। न तो युवा वर्ग और किसान राहुल गांधी के बहकावे में आयेगा और न आंदोलन से जुड़ सकता है। कांग्रेस की भूमिका बेनकाब हो चुकी है। कांग्रेस को उत्तरदायी विपक्ष की तरह सकारात्मक भूमिका का निर्वाह करना चाहिए और हिंसक तत्वों को शह देने से बाज आना चाहिए।

००००००००००००००००

LEAVE A REPLY