किसान आंदोलन-शाजापुर में उपद्रव, ट्रक और 4 बाइक जलाई

0
109

शाजापुर। (हिन्द न्यूज सर्विस)। मंदसौर में किसान आंदोलन के दौरान फायरिंग में 6 किसानों की मौत के विरोध में शाजापुर में किसानों ने प्रदर्शन किया। गुरुवार सुबह नेशनल हाईवे रोकने के बाद दोपहर में उपद्रवियों ने मंड़ी में पथराव किया और वाहनों में आग लगा दी। इस दौरान एसडीएम, मीडियाकर्मी और पुलिस जवान सहित कुल चार लोग घायल हो गए। शहर की ओर भीड़ आती देख लोगों ने खुद मोर्चा संभाला और पुलिस के साथ मिलकर आंदोलनकारियों को खदेड़ दिया।

गुरुवार को मंडी में प्याज खरीदी के दौरान उपद्रव हुआ और आक्रोशित किसानों ने एक सरकारी ट्रक एवं 4 मोटरसाइकलें फूंक डाली।

एसडीएम को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, जबकि पथराव से एक दर्जन से ज्यादा पुलिसकर्मी, मीडियाकर्मी व आमजन घायल हुए। कलेक्टर ने एहतियातन शहर में धारा 144 लगा दी।

सुबह 11 बजे उपद्रवी नेशनल हाईवे पर जमा हो गए और चक्काजाम कर दिया। इसके बाद इन्होंने कृषि उपज मंडी में धावा बोल दिया। यहां व्यापारी किसानों से प्याज की खरीदी कर रहे थे। यह देख प्रदर्शनकारी भड़क गए और खरीदी बंद करवाने पर अड़ गए। इसके बाद कलेक्टर अलका श्रीवास्तव, एसपी मोनिका शुक्ला, एडीएम मीनाक्षी सिंह और एएसपी ज्योति सिंह फोर्स के साथ मौके पर पहुंचीं।

कुछ देर तक बात करने के बाद प्रदर्शनकारी पीछे हट गए, लेकिन कुछ उपद्रवियों ने मंडी में खड़ी एक प्याज की ट्रॉली को पलटा दिया और पथराव शुरू कर दिया। इसके बाद इन्होंने वाहनों में आग लगाना शुरू कर दिया। उपद्रवियों ने यहां एक डंपर और तीन बाइक में आग लगा दी। इसके बाद पुलिस ने उपद्रवियों को भगाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े, लेकिन वे नहीं माने और लगातार पथराव करते रहे। इसके बाद भीड़ ने शहर का रुख किया। पुलिस बल कम होने पर पुलिस के आलाधिकारियों ने नगर सुरक्षा समिति के सदस्यों से मदद मांगी।

पुलिस ने इनके साथ उपद्रवियों को भगाना शुरू किया, लेकिन ये शहर की ओर लगातार बढ़ रहे थे। इस पर शहरवासियों ने भी इसके खिलाफ मोर्चा संभाला और पुलिस के साथ मिलकर इन्हें भगाते हुए शहर से काफी दूर ले गए।

एसडीएम राजेश यादव को 10 से 15 उपद्रवियों ने घेरकर पीटा। उनके पैर में फ्रेक्चर हुआ और वे बेहोश हो गए। उपद्रव की शुरुआत दोपहर 12.30 बजे हुई, जब आक्रोशित किसान कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर मंडी पहुंच गए। यहां प्याज की सरकारी खरीदी हो रही थी। किसानों की मांग की थी कि 10 जून तक खरीदी न हो।

कलेक्टर-एसपी ने यह मांग मान ली। बावजूद 200 से 300 किसान बेकाबू हुए। जिन्होंने मंडी से कुछ दूर एबी रोड पर खड़े एमपीईबी के ट्रक में आग लगी। पुलिस ने जब इन्हें रोका तो वे आक्रोशित होकर पथराव करने लगे। जवाब में पुलिस ने 100 से ज्यादा आंसू गैस के गोले छोड़े। 4 घंटे तक मंडी व एबी रोड पर उत्पात मचाया। 3 घंटे तक एबी रोड पर चक्काजाम रहा।

०००००००००००००

LEAVE A REPLY