उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू को शिवसेना सांसदों ने सदन में ही घेरा

0
121

नई दिल्ली। (हिन्द न्यूज सर्विस)। रवीन्द्र गायकवाड की हवाई यात्रा पर प्रतिबंध हटाने की शिवसेना की मांग को नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू द्वारा स्वीकार नहीं करने के बाद लोकसभा में अफरातफरी की स्थिति उत्पन्न हो गई और केंद्रीय मंत्री अनंत गीते समेत शिवसेना सदस्यों ने सदन में ही राजू को घेर लिया। मामले की नजाकत को देखते हुए तब सदन में मौजूद गृह मंत्री राजनाथ सिंह को फौरन आंगे आकर मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा। इससे पहले उड्डयन मंत्री राजू ने अपने जवाब में सदन को बताया कि एयर इंडिया कानून के मुताबिक काम करेगा और वो उसके बीच नहीं आएंगे। दरअसल, एयर इंडिया के मैनेजर को चप्पल मारने के आरोपी सांसद रविन्द्र गायकवाड़ पर एयर इंडिया ने फ्लाइंग बैन लगा रखा है।

लोकसभा की कार्यवाही के दौरान देखा गया कि मोदी सरकार के कई मंत्री उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू को बचाने की कोशिश कर रहे हैं जबकि अनंत गीते समेत कई शिव सेना सांसदों ने उन्हें घेर रखा है। अनंत गीते को सदन में यह कहते हुए सुना गया कि मुंबई से कोई भी फ्लाइट उडऩे नहीं देंगे। वो लगातार उड्डयन मंत्री पर चीख रहे थे। उस वक्त केन्द्रीय मंत्री एसएस अहलूवालिया ने उड्डयन मंत्री को पकड़ रखा था। थोड़ी ही देर बाद अहलूवालिया उड्डयन मंत्री को सदन से बाहर लेकर चले गए।

इससे पहले शिवसेना सांसद रविंद्र गायकवाड़ ने सदन में यह कहा, मैं अपने आचरण पर माफी मांगता हूं न कि एयर इंडिया के उस कर्मचारी से जिसने मेरे साथ बदतमीजी की।” उन्होंने यह भी कहा कि उनकी पार्टी एयर इंडिया द्वारा लगाए गए बैन को हटाने की मांग करती है। गायकवाड़ ने उस घटना का एक वीडियो क्लिप भी सौंपा जिसमें उन्होंने दावा किया है कि बार-बार उकसाये जाने के बाद ही उन्होंने एयर इंडिया कर्मचारी के साथ बुरा व्यवहार किया था।

एनडीटीवी के मुताबिक, इसके बाद उड्डयन मंत्री ने कहा कि कानून अपना काम करेगा। उन्होंने कहा कि एयरक्राफ्ट एक मशीन है, जिसमें लोग हवाई यात्रा करते हैं और उनकी सुरक्षा हमारे लिए अहम है। मंत्री ने कहा कि सरकार यात्रियों की सुरक्षा से समझौता नहीं कर सकती। इसके बाद शिव सेना सांसदों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। हंगामा होता देख लोकसभा स्पीकर ने तुरंत सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। इसके बाद शिव सेना के गुस्साए सांसदों ने मंत्री पर फब्तियां कसनी शुरू कर दी और विरोध में नारे लगाने लगे। जब अनंत गीते मंत्री पर चीखने लगे तब मोदी सरकार के मंत्रियों ने आगे बढ़कर उड्डयन मंत्री का बचाव करना बेहतर समझा और उन्हें सुरक्षित सदन से बाहर लेकर चले गए।

००००००००

LEAVE A REPLY